Members Profile


Sharad Bhatia
Sharad Bhatia New Delhi / India, Male, 42
This list shows most recent 10 activities.
Activities Date
Poems read  
10/28/2020 9:44:00 PM
10/28/2020 9:37:00 PM
10/28/2020 9:14:00 PM
10/28/2020 8:58:00 PM
10/28/2020 8:08:00 AM
10/28/2020 8:04:00 AM
10/28/2020 2:55:00 AM
10/27/2020 8:31:00 AM
10/27/2020 4:34:00 AM
10/27/2020 4:28:00 AM
Poems Rated  
10/15/2020 12:09:00 PM
10/15/2020 11:48:00 AM
10/14/2020 1:02:00 PM
10/14/2020 12:51:00 PM
10/14/2020 5:38:00 AM
10/12/2020 1:31:00 PM
10/12/2020 1:17:00 PM
10/12/2020 1:03:00 PM
10/12/2020 12:47:00 PM
10/12/2020 12:28:00 PM
Poet Liked  
6/28/2020 7:20:02 AM

Sharad Bhatia's last comments on poems and poets

  • POEM: दशहरा (Dusherra) by Sharad Bhatia (10/28/2020 9:44:00 PM)

    सुप्रभात असीम साहब जी,
    मैं माफी चाहता हूँ कि कुछ व्यस्तता के चलते मैं PH page नहीं देख पाया नहीं आपके द्वारा की गई टिप्पणी को पढ़ पाया जिसका मुझे हार्दिक खेद है
    पहले तो बहुत - बहुत आभार जो आपने मेरी छोटी सी कल्पना को पढ़ा और इसे सराहा
    आपने भी बहुत खूब कहा कि आओ रिश्वत के कुंभकर्ण को सुलाये और मेघनाथ से मरूस्थल मे बरसात करवाये

  • POEM: दशहरा (Dusherra) by Sharad Bhatia (10/28/2020 9:40:00 PM)

    सुप्रभात असीम साहब जी,
    मैं माफी चाहता हूँ कि कुछ व्यस्तता के चलते मैं PH page नहीं देख पाया नहीं आपके द्वारा की गई टिप्पणी को पढ़ पाया जिसका मुझे हार्दिक खेद है
    पहले तो बहुत - बहुत आभार जो आपने मेरी छोटी सी कल्पना को पढ़ा और इसे सराहा
    आपने भी बहुत खूब कहा कि आओ रिश्वत के कुंभकर्ण को सुलाये और मेघनाथ से मरूस्थल मे बरसात करवाये

  • POEM: दशहरा (Dusherra) by Sharad Bhatia (10/28/2020 9:37:00 PM)

    सुप्रभात असीम साहब जी,
    मैं माफी चाहता हूँ कि कुछ व्यस्तता के चलते मैं PH page नहीं देख पाया और ना ही आपके द्वारा की गई टिप्पणी को पढ़ पाया जिसका मुझे हार्दिक खेद है
    पहले तो बहुत - बहुत आभार जो आपने मेरी छोटी सी कल्पना को पढ़ा और इसे सराहा
    आपने भी बहुत खूब कहा कि आओ रिश्वत के कुंभकर्ण को सुलाये और मेघनाथ से मरूस्थल मे बरसात करवाये।।

Read all 398 comments »